मेरे सपनों का भारत (निबंध)

मेरे सपनों का भारत
"
"

भारत एक ऐसा देश है जहां अलग अलग संस्कृतियों और धर्मों के लोग एक-दूसरे से प्रेम के साथ रहते हैं। अभी भी देश के कई हिस्सों में किसी आदमी के लिंग, जाति, पंथ, धर्म और आर्थिक स्थिति के आधार पर भेदभाव किया जाता है। मेरे सपनों का भारत ऐसा भारत होगा जहां किसी से ऐसा कोई भेदभाव नहीं है।

हम सभी शांति के साथ रहना चाहते हैं भारत ने पिछले कुछ दशकों में विज्ञान, प्रौद्योगिकी, शिक्षा और अन्य क्षेत्रों में बहुत विकास देखा है। मैं एक पूरी तरह से विकसित देश के रूप में भारत का सपना देखता हूं।

मेरे सपनों का भारत पर कई प्रकार के निबंध

शिक्षा

राष्ट्र की वृद्धि में शिक्षा का अभाव मुख्य बाधाओं में से एक है। सरकार बच्चों को प्रेरित करने की कोशिश कर रही है। देश के विकास के लिए सभी का शिक्षित होना बहुत जरूरी है। शिक्षा इस देश के भविष्य के लिए जरूरी है।

रोजगार

देश में अच्छे रोजगार के अवसरों की कमी है। ज्यादातर लोग जिनके पास क्षमता है उन्हें अभी भी नौकरी नहीं मिलती है। बेरोजगारों के बीच असंतोष का स्तर बहुत अधिक है और वे अक्सर सड़क पर अपराध करते हुए पाए जातें हैं। मेरे सपनों का भारत वो भारत है जो सभी के लिए बराबर रोजगार के अवसर प्रदान करता है जिससे कि हम सभी हमारे देश के विकास और सुधार के लिए काम करें।

जातिवाद

जातिवाद भारत में एक बहुत ही विचारणीय विषय है। मेरे सपनों का भारत एक ऐसा स्थान होगा जहां लोगों से जाति, पंथ या धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाता हो।

लिंग भेदभाव

भारत एक ऐसा देश है जहां महिलाओं के साथ बहुत सम्मान से व्यवहार किया जाता है और पुरुषों के बराबर महत्व दिया जाता हो। यह एक ऐसी जगह होगी जहां महिलाओं की सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण होगी।

तकनीकी विकास

भारत ने प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में तेजी से वृद्धि देखी है। मैं चाहता हूं कि मेरे सपनों का भारत और अधिक गति से आगे बढ़े और प्रथम श्रेणी के देशों में अपनी जगह बनाने के लिए नई ऊंचाइयों को हासिल करे।

निष्कर्ष

मेरे सपनों का भारत वो भारत है जहां विभिन्न जातियों, पंथों, धर्मों, जातीय समूहों और आर्थिक एवं सामाजिक स्थिति के लोग एक-दूसरे के साथ पूर्ण सामंजस्य में रहते हैं। मेरे सपनों के भारत में सरकार को अपने सभी नागरिकों के लिए समान रोजगार के अवसर सुनिश्चित करने चाहिए।

प्रस्तावना

हमें अपने भारत देश पर गर्व है जिसमें जातियों, धर्मों और धर्मों से संबंधित लोग एक साथ रहते है। हमारा देश अपनी समृद्ध संस्कृति और विविधता में एकता के लिए जाना जाता है। इससे पहले भारत ने अलग उद्योगों में भी तेजी देखी है। फिर भी हमें शांति बनाए रखने की जरूरत है यहां कुछ ऐसे क्षेत्रों के उदाहरण दिए गए हैं जिन पर काम करके भारत को आदर्श देश बनाने में सहायता मिल सकती है:

गरीबी

देश में आर्थिक असमानता बहुत ज़्यादा है। यहां अमीर दिन प्रतिदिन और अमीर हो रहे हैं और गरीब और गरीब बनते जा रहे हैं। मैं ऐसे भारत का सपना देखता हूं जहां धन समान रूप से नागरिकों के बीच वितरित किया जाता हो।

भ्रष्टाचार

हमें भारत को भ्रष्टाचार मुक्त देश बनाना है। यह एक ऐसी जगह होगी जहां राजनीतिक नेता अपने स्वयं के स्वार्थ को पूरा करने के बजाय देशों की सेवा में समर्पित रहेंगे।

Leave a comment

"
"